Blogs

मरने के बाद इलाज नहीं होता

सन 2014 से सरकारी नौकरियां समाप्त होना शुरू की, उस समय लोग समझ न सके | हर साल 2 करोड़ नौकरी देने का वायदा था लेकिन हुआ उसके उल्टा |

समस्या अपनी तो लड़ों भी खुद

मुझे इस बात का आश्चर्य है कि रोज-न-रोज कोई न कोई सरकारी कम्पनी के बिकने की सूचना आती रहती है लेकिन समाज चुपचाप क्यों बैठा है ?

दलित , आदिवासी एवं पिछड़े भी अपनी बर्बादी के लिए जिम्मेदार

भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड के 15 हजार पेट्रोल पम्प हैं जिसे सरकार बेंचने पर अमादा है, इस कम्पनी ने पिछले 5 साल में 35182 करोड़ मुनाफ़ा कमाया है

कब तक बना रहेगा समाज भोला एवम भावुक

समयांतराल दलित समाज में जागृति आई है लेकिन देखना है कि इसका लाभ हो पा रहा है कि नहीं | जाग्रत समाज जल्दी इकट्ठा एवं उग्र भी हो जाता है |